Home » Ardh Satya » अर्ध सत्य: दिल्ली CM केजरीवाल के कथनी और करनी के बीच का अंतर क्या है ?

अर्ध सत्य: दिल्ली CM केजरीवाल के कथनी और करनी के बीच का अंतर क्या है ?

अर्ध सत्य: दिल्ली CM केजरीवाल के कथनी और करनी के बीच का अंतर क्या है ?

By Web Desk | Updated: Sunday, September 11, 2016 - 21:08

Delhi CM Arvind Kejriwal not loyal with known him statment Rana Yashwant show ArdhSatya

नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार और उनकी आम आदमी पार्टी (AAP) जो कुछ भी कहते करते रहे हैं और अपने कहने करने के पीछे जो दलीले देते रहे हैं, सच वही है या कुछ और भी है. जिसका सच से करीबी वास्ता है, लेकिव वो सच आप और हम समझ नहीं पा रहे. अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी इस देश में विकल्प की राजनीति के तौर पर, साफ-सुथरी राजनीति के तौर पर समर्थन में आए और सत्ता पाए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अरविंद केजरीवाल के दो ऐसे बयान हैं जिससे वो बाकी पार्टियों से अलग नहीं दिखते. पहला बयान उनका उस वक्त का है जब केजरीवाल ने दिल्ली की कुर्सी संभाली थी और दूसरा बयान उनका पंजाब की कुर्सी के लिए लड़ते वक्त का है. ये केजरीवाल का पहला बयान है जो उन्होंने दिल्ली की कुर्सी संभालते वक्त दिया था. उन्होंने कहा था कि AAP के कुछ लोग कह रहे हैं कि दिल्ली जीता अब देश के दूसरे राज्यों को भी जीतेंगे. ये ठीक नहीं है. इसमें मुझे थोड़ा-थोड़ा अंहकार नजर आ रहा है. 
 
CM केजरीवाल ने आगे कहा कि अहंकार मत करना, वरना वही हाल होगा, जो कांग्रेस का हुआ. बीजेपी का हुआ. जनता से कांग्रेस को अहंकार की वजह से ही दिल्ली से उखाड़ फेंका. अहंकार के कारण ही बीजेपी का लोकसभा चुनाव के बाद दिल्ली में यह हश्र हुआ. केजरीवाल ने कहा, 'दिल्ली की जनता ने मुझ पर विश्वास किया है, मैं पांच साल तक दिल्ली में रहकर केवल दिल्ली की जनता की सेवा करुंगा और अपनी जिम्मेदारी के तन-मन-धन से पूरा करुंगा.'
 
विरोधि‍यों में अरविंद केजरीवाल के बारे में यह बात बड़ी मशहूर है कि वह एक जिम्मेदारी मिलते ही अगली के लिए पहली को छोड़ देते हैं. अब हम आपको केजरीवाल का दूसरा बयान बताते हैं, जो उन्होंने आगामी पंजाब चुनाव के वक्त पंजाब में दिया है. उन्होंने कहा है, 'अब मैं यहां आ गया हूं, यंही खूंटा गाड़ के बैठूंगा. मैं दोनों बादलों को जेल भिजवाकर ही दम लूंगा. दो-चार दिन बीच-बीच में दिल्ली जाएंगे लेकिन बादलों को जेल भिजवाकर ही पंजाब छोड़ेंगे.'
 
पंजाब में AAP कह रही है कि जब हम पंजाब की सत्ता में आएंगे तो शराब और नशा को बिल्कुल बंद करवा देंगे. यह बात आखिर क्यों मानी जाए, जबकि दिल्ली की सूरत ठीक इससे उलट है. दिल्ली में डेढ़ साल की आम आदमी पार्टी की सरकार में शराब के 399 नए लाइसेंस दिए गए और यह बात एक RTI के जरिए सामने आई यानि औसतन हर दिन शराब का एक ठेका दिल्ली में खुला. पिछले साल अप्रैल 2015 से 2016 तक एक्साइज ड्यूटी के नाम पर केजरीवाल सरकार ने 3162 करोड़ की कमाई  की है.
 
इस ताजा मुद्दे पर जानिए पूरा सच इंडिया न्यूज के मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत के साथ खास शो "अर्ध सत्य" में.   
 
वीडियो क्लिक करके देखिए पूरा शो
First Published | Sunday, September 11, 2016 - 17:58
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: Delhi CM Arvind Kejriwal not loyal with known him statment Rana Yashwant show ArdhSatya
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सेना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना में नवीन आविष्कारों के लिए प्रमाण पत्र भेंट करते हुए
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में बर्फबारी का एक दृश्य
  • पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, एक दूसरे को मकर संक्राति की बधाई देते हुए
  • मुम्बई में, भित्ति कलाकार रूबल नागी की क्रिएशन का उद्द्घाटन करने पहुंचे अभिनेता शाहरुख़ खान
  • मुंबई में अभिनेत्री जूही चावला, पर्यावरण के प्रति प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में बोलते हुए
  • अभिनेता अर्जुन रामपाल, नई दिल्ली के भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान
  • जुहू के इस्कॉन मंदिर में, दिवंगत अभिनेता ओम पुरी की पत्नी नंदिता पुरी और बेटा ईशान
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, नई दिल्ली में पार्टी के "जन वेदना सम्मेलन" के दौरान संबोधित करते हुए
  • चेन्नई में, आनेवाले पोंगल के लिए बर्तनों पर चित्रकारी में व्यस्त महिला
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले, गाजियाबाद में फ्लैग मार्च करते सुरक्षा कर्मी
Pro Wrestling League India (PWL)